सऊदी अरब के लिए उड़ान भरने वाले एयर इंडिया, जेट एयरवेज विमानों के क्रू-मेंबर्स काफी डरे हुए हैं। दरअसल वहां पहुंचने पर उनका ओरिजनल पासपोर्ट रख लिया जाता है और फिर जब तक वह सऊदी में रुकते हैं, तब तक यात्रा संबंधी दस्‍तावेजों के नाम पर सिर्फ फोटोकॉपी ही उनके पास होती है। वैसे तो इसको लेकर पायलट और फ्लाइट अटेंडेंट्स हमेशा से चिंतित रहे हैं। मगर हाल ही में उनका यह डर उस वक्‍त सच में बदल गया, जब एक एयर इंडिया विमान के तीन क्रू-मेंबर्स को जेद्दा में हिरासत में ले लिया गया।

टाइम्‍स ऑफ इंडिया के अनुसार, हिरासत में लिए गए एक क्रू-मेंबर ने बताया कि वो सभी 26 जुलाई को AI 931 फ्लाइट से जेद्दा पहुंचे थे। तीनों डिनर के लिए बाहर निकले तो रास्‍ते में परमिट चेक करने के लिए सऊदी पुलिस ने उनकी टैक्‍सी रोक ली और जब दस्‍तावेज की फोटोकॉपी दिखाई तो उन्‍हें पुलिस वैन बैठा लिया गया और मोबाइल का इस्‍तेमाल करने से मना कर दिया गया।

हालांकि सौभाग्‍य से वो होटल में कॉल कर पाए और फिर उन्‍हें सब कुछ बताया। जब क्रू-मेंबर्स ने पूछा कि उन्‍हें क्‍यों हिरासत में लिया गया है तो उन्‍होंने बताया कि पासपोर्ट की फोटोकॉपी नहीं चलेगी और चेकिंग के लिए ओरिजनल दस्‍तावेज दिखाने पड़ेंगे। किसी तरह तीन घंटे बाद उन्‍हें जाने दिया गया। एयर इंडिया के एक स्‍थानीय अधिकारी ने बताया कि सऊदी अवैध प्रवासियों को उन्‍हें वापस भेजने के लिए एक अभियान चला रहा है, इस वजह से ही चेकिंग बढ़ा दी गई है।

वहीं एयर इंडिया के एक प्रवक्‍ता ने कहा है कि इस संबंध में जेद्दा प्रशासन से पुष्टि करने की कोशिश की जा रही है। एक जून को जेट एयरवेज के एक सीनियर पायलट ने सऊदी अरब द्वारा क्रू-मेंबर्स का पासपोर्ट रखे जाने का मुद्दा उठाया था।

SHARE